मेरा सब तेरा ही तो था...

मेरी रूह तो तेरी थी
साँसे भी तेरी ही थीं
मेरा हर लम्हा तेरे लिए थे
मेरी हर घड़ी भी तेरी थी...

मेरी हर याद में तेरा ही साया था
मेरी धडकनों में भी सिर्फ तू ही समाया था
मेरे कानों में आवाज़ तेरी ही थी
मेरी आँखों में तस्वीर तेरी ही समाई थी...

मेरे अहसासों में तू था
मैं महसूस भी बस तुझे ही करती थी
बात किसी की भी हो
मैं बात तेरी ही करती थी...

मेरी मंज़िल भी तू ही था
और था तू ही मेरा साहिल भी...
बस इन पन्नों की सफेदी में
उकेरे कुछ शब्द ही बस मेरे थे...

आज ये भी तुझमें शामिल हो गए...

44 comments:

  1. @महाबीर जी... धन्यवाद...

    ReplyDelete
  2. अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. @सुज्ञ जी... धन्यवाद...

    ReplyDelete
  4. शब्द भी तेरे हुए ....बहुत खूब ...अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. @संगीत जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  6. प्रेमकूप में सब घुल जाये,
    न तेरा मेरा रह पाये।

    ReplyDelete
  7. प्रेमपरक काव्यात्मक सुन्दर अभिव्यक्ति.

    समय हो तो मेरी नई पोस्ट भी देखें,पूजा जी

    ReplyDelete
  8. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (29/11/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. अच्छी भावपूर्ण रचना .प्रेम से ओत प्रोत किसी को अपना बनाने और उसी में समां जाने की प्रदर्शित करती रचना ...................

    ReplyDelete
  10. @प्रवीण जी, कुंवर जी, वंदना जी, अरुण जी, अमरजीत जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @प्रवीण जी... सही कहा आपने... पर क्या करू, मुझे मेरा कुछ दिखता ही नहीं है, सब उसीका लगता है...
    @वनादाना जी... बहुत-बहुत धन्यवाद... जी जरूर, मेरी उपस्थिति वहां जरूर दर्ज होगी...

    ReplyDelete
  11. हमारे मन्त्रों में भी तो आता है. "इदं न ममा, अग्निये स्वाहा"
    सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  12. @सुब्रमनियम जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्‍दर बात कह दी आपने ....बेहतरीन
    सुंदर भाव है..

    ReplyDelete
  14. @अरुण जी... धन्यवाद... फ़िर से...
    @दीपक जी... धन्यवाद...

    ReplyDelete
  15. आज ये सब भी तुझमे शामिल हो गए ...
    तेरा तुझको अर्पण !

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ... पूर्ण समर्पण के भाव लिए हुए !

    ReplyDelete
  17. khubsurat,,,bhaavpurn...sundar rachna...

    ReplyDelete
  18. @वाणी गीत, इन्द्रनील जी, अरविन्द जी, अनुपमा जी.... आप सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  19. dear pooja, really excellent! many-many congratulations!

    ReplyDelete
  20. @Dr. Vasha ji... thank you so much Mam...

    ReplyDelete
  21. @Jayhrishna ji... thank you so much...
    my pleasure...

    ReplyDelete
  22. सुन्दर भावपूर्ण कविता..बधाई

    ReplyDelete
  23. @कैल्श जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  24. क्या बात है बहुत खूब....बहुत तराशी हुई रचना है,
    बहुत ही सुन्‍दरता से व्‍यक्‍त बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।
    ......आनंद आगया.

    ReplyDelete
  25. Pooja, bahot achchi panktiyan hai...Meri har Yaad me tera hi saya hai ...meri har dhadkan me thi samay hai ......lajwaab likh hai

    ReplyDelete
  26. @भैया... बहुत-बहुत धन्यवाद... बस एक छोटी-सी कोशिश की है...

    ReplyDelete
  27. क्या बात है मीठी, बहुत अच्छे बिटिया
    चलो कोई बात नहीं, मैं उसे बता दूंगा
    आशीर्वाद

    ReplyDelete
  28. wow sweethrt, grt yaar
    hmm hmm, love
    ?????????????????
    maine kuchh nahi kaha
    bt seriously awesome

    ReplyDelete
  29. and yah, Baba ne sahi kaha, wo usey bata denge :))

    ReplyDelete
  30. sab kuch uska hai to aap bhi usi me samahit ho gayi...... vaah yeh hriday ke udgar hain

    ReplyDelete
  31. बहुत ही सुन्दर रचना. शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  32. बढिया भाव प्रस्तुति. किन्तु ये पति/प्रेमी को समर्पित है या पुत्र को ? क्षमा चाहूँगा, लेकिन मेरे दिमाग में स्पष्ट नहीं हुआ ।

    ReplyDelete
  33. वाह पूजा
    मेरी मंजिल भी तू ही था
    और था ही तू ही मेरा साहिल
    .........वह क्या कहने बहुत ही बेहतरीन
    पांच बार पढ़ चूका हूँ पर मन ही नहीं भरता

    ReplyDelete
  34. अंतिम तीन पंक्तियों में कविता अपनी चरम पर पहुँच कर भाव विह्वल कर देती है - उत्कृष्ट रचना के लिए हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  35. नमस्कार जी! बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  36. @बाबा, आर्ची, संध्या जी, ज़मीर जी, सुशील जी, भैया, राकेश जी, विजय जी... बहुत-बहुत धन्यवाद..
    @सुशीलजी... जी जरूर, स्पष्टता बहुत जरूरी है...
    ये सिर्फ वो निश्छल प्रेम है जिसमें सिर्फ समर्पण की भावना है...
    अब ये आपके ऊपर है कि आप इसे किसके प्रति समर्पित देखते हैं... पति/प्रेमी/पुत्र या ईश्वर...
    मेरा समर्पण सिर्फ प्रेम को है... और यदि आप मेरे भौतिक जीवन के बारे में पूछ रहे हैं तो, न ही मैं विवाहित हूँ कि पति/पुत्र की बात करूँ, और ऐसी खुशकिस्मती भी नहीं कि कोई "ख़ास" हो... रही बात ईश्वर की तो मै सिर्फ उनकी साधना में यकीन रखती हूँ वो भी मन से...

    ReplyDelete
  37. बहुत ही अच्छी रचना,जैसे कोई नदी कल कल बहती जा रही हो समर्पण का भाव लिए !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  38. @ज्ञानचंद जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete