लाली देखन मै भी चली...

"लाली मेरे लाल की, जित देखूं उत लाल...
लाली
देखन मै गयी, मैं भी हो गयी लाल..."


पंक्तियों को पढ़
सज-सँवर,

प्रेम-रस में डूब कर...
अपने नन्हें हाथों में
कुछ कोमल सपनों की पोटली ले
निकली थी

मैं भी अपने लाल को खोजने...

बाहर आकर देखा
तो मंज़र कुछ और ही था...

हर दरवाज़े पर एक लाल खोपड़ी टंगी थी...
और नीचे लिखा था... DANGER... खतरा...
प्यार के रास्ते में ख़तरा???

बात समझ के परे थी ...
मैं आगे चल पडी...


जो दिखा...
उसमें...
कहीं लडकी होने के कारण

बुरी नीयतों का खतरा...
कहीं जात-पात का खतरा
कहीं रिवाजों के टूट जाने का खतरा...
तो कहें ऊँच-नीच का खतरा

कहीं सह्गोत्री होने के कारण
ऑनर-किलिंग का खतरा...
तो कहीं नकास्ल्वाद,
आतंकवाद का खतरा...
या फ़िर,
प्रादेशिक अलगाव या भाषा अलग होने से
पहचाने जाने का खतरा...

कहीं धोखे-से किसी दरवाज़े को

छूने की कोशिश भी करती...
चरों ओर से खतरनाक आवाज़ गूंजती...
"खतरा... ख़तरा... खतरा..."
इतना सुन
ऐसा लगा मनो
फट पड़ेंगीं दिमाग की नसें...
पागल हो जाउंगी मै इस गर्जना से...
और टूट जायेंगे मेरे सपने सच होने से पहले...

इसी डर से समेट ली
अपनी पोटली अपने सीने में

और चीख पड़ी थी ज़ोर से...

पर ध्यान आया अचानक
अपने नन्हें सपनों का
फटाफट खोली वो पोटली...

पर...
तब तक...
वो त्याग चुके थे अपने प्राण
और मैं नहा रही थी उनके लहू से...


तब याद आया कि...
लाल रंग केवल प्रेम का नहीं
"खतरे" का सूचक भी है...
और अब उन पंक्तियों का मतलब मैं समझ भी गयी थी
और उन्हें आज के युग में चरितार्थ भी कर रही थी...

वाकई...

"लाली मेरे लाल की, जित देखूं उत लाल... लाली देखन मै गयी, मैं भी हो गयी लाल..."

89 comments:

  1. रचना पढ कर शब्दहीन हो गया हूँ,
    इस से बेहतर क्या हो सकता है?
    बधाई

    ReplyDelete
  2. @दीपक जी... बहुत-बहुत शुक्रिया...

    ReplyDelete
  3. हर तरफ खतरा ही खतरा है
    बस एक एक छोटा सा निर्भीक दिल चाहिए

    ReplyDelete
  4. लाजवाब.....प्रशंशा के लिए उपयुक्त कद्दावर शब्द कहीं से मिल गए तो दुबारा आता हूँ...अभी
    मेरी डिक्शनरी के सारे शब्द तो बौने लग रहे हैं...

    ReplyDelete
  5. @अभिषेक जी, भैया... बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @अभिषेक जी... वही दिल लेकर तो निकली थी
    @भैया... ज्यादा तारीफ नहीं हो गयी??? सिर्फ कोशिश की है...

    ReplyDelete
  6. इस प्यार के नाम से मैं भी सिहरी थी
    हवा से हल्की हो गई थी
    आकाश को छू लेना चाहा था
    पर उदासी की दस्तकों में
    ईश्वर ने रुंधे गले से कहा था
    'कहा था मैंने प्यार कलयुग में होगा नहीं
    जो करेगा ....
    तुम तो निस्तेज हो ही गई ...'

    ReplyDelete
  7. @मैम... बहुत-बहुत धन्यवाद...
    परन्तु आपके इस कमेन्ट के लिए मैं कुछ कह सकूं.... शब्द ही नहीं हैं...

    ReplyDelete
  8. समाज पर बेतरीन कटाक्ष किया है आपने ,
    समाज को सबक लेना चाहिए इस से
    ajabgazab.blogspot.com
    dabirnews.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. पूजा जी
    ऐसी कवितायें रोज रोज पढने को नहीं मिलती.....
    सोचने को मजबूर करती है आपकी यह रचना !

    ReplyDelete
  10. Behatreen Rachna. Apna Khyal rakhiyega.

    ReplyDelete
  11. @तौसीफ जी, भैया, तारकेश्वर जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @भैया... आपने फ़िर से "जी" कहा???
    @तारकेश्वर जी... जी जरूर... धन्यवाद...

    ReplyDelete
  12. प्रेम और खतरा - इस तो अब कोई विवाद रहा ही नहीं कि दोनों समानार्थी हैं।

    ReplyDelete
  13. निशब्द कर दिया……बेहतरीन प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  14. 5/10

    कविता के रूप में तो नहीं लेकिन भावनाओं के रूप में पोस्ट बहुत अच्छी लगी.
    खतरे तो हर जगह हैं ... हममें ही कमियां हैं, कमजोरियां हैं जो जूझने का जज्बा और हौसला नहीं दिखा पाते.

    ReplyDelete
  15. प्यार की अनुभूतियों में समाज के लहुलूहान हालात और उसका दर्द बहुत ही खूबसूरती से प्रतिबिंबित किया है!
    धन्यवाद !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  16. पूजा,
    समाज ने रिश्तों से प्रथा को हमेशा बड़ा दिखाना चाहा है और जो भी इसमें बाधक बना उसका अस्तित्व मिटाने तक से भी परहेज नहीं किया है .आज भी कमोबेश ऐसा ही है.लेकिन बदलाव की आंधी में प्रथाएं पत्तों की तरह उड़ती नजर आ रही हैं.पेड़ों में नयी-नयी कोंपलें आने लगी है..बेहद संजीदगी-भरी रचना.

    ReplyDelete
  17. मार्मिक अभिव्यक्ति।
    ..श्याम की लाली को वक्त की लाली अपने ही रंग में रंग देती है...कटु सत्य।
    ..बधाई।

    ReplyDelete
  18. पूजा जी बहुत अच्छी रचना वक्त और हालातो का अच्छा विश्लेषण प्रस्तुत किया आपने !
    लाली मेरे लाल की जीत देखू उत लाल
    लाली देखन मै गयी मै भी हो गयी लाल
    इन लाइनों को इस तरह वक्त और हालातो से जोड़कर भी प्रस्तुत किया जा सकता है सोचा नहीं था !

    ReplyDelete
  19. थोड़ी देर के लिए सोच में पड़ गया... क्या लिखूं... शब्दों को आपकी भावनाओं ने छोटा साबित कर दिया है ....
    awesome....

    ReplyDelete
  20. समाज पर बेतरीन कटाक्ष....इस से बेहतर क्या हो सकता है|

    ReplyDelete
  21. दोहे के 'लाल' शब्द की ऐसी व्याख्या और उस पर कविता भी,क्या बात है.
    काफी दिनों से मेरा ब्लॉग आपने नहीं देखा,पूजा जी

    ReplyDelete
  22. @प्रवीण जी, वंदना जी, उस्ताद जी,ज्ञानचंद जी, राजीव जी, देवेन्द्र जी, अमरजीत जी, शेखर जी, पाताली जी, नया सवेरा जी, कुंवर जी... आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया...
    @उस्ताद जी... मैं आपकी बातों से सहमत हूँ पर पूर्णतया नहीं... क्या बताएँगे कि कल रात दिल्ली में जो हुआ उसमें किसका साहस कितना काम आया... या जिन्होंने दुस्साहस दिखाया उन्हें साहसी कहा जाए... खैर, बातें ही तो हैं होती रहती हैं... है न!... कुछ गलत कहा हो तो क्षमा चाहती हूँ...
    @कुंवर जी... अनुपस्थिति के लिए क्षमा मांगती हूँ... अभी पहुँचती हूँ वहां... धन्यवाद...

    ReplyDelete
  23. aap ke lal ki lali ne kamal kar diya .
    kamal ki soch.

    ReplyDelete
  24. @पूर्विया जी... बहुत-बहुत धन्यवाद... बस लाल ही तो हैं, कमाल ही करेंगे जब भी करेंगें...

    ReplyDelete
  25. मेरी पोस्ट पर कमेन्ट के लिए धन्यवाद. आपकी शालीनता ने आपको अलग पहचान दे रक्खी है पूजा जी, आप जैसे लोगों की मैं क़द्र करता हूँ.

    ReplyDelete
  26. मेरी पोस्ट पर कमेन्ट के लिए धन्यवाद. आपकी शालीनता ने आपको अलग पहचान दे रक्खी है पूजा जी, आप जैसे लोगों की मैं क़द्र करता हूँ.

    ReplyDelete
  27. @कुंवर जी... आप मुझसे उम्र, ओहदे और तजुर्बे में बहुत बड़े हैं... मैं तो आपकी बिटिया सामान हूँ...
    यदि आप मानतें हैं कि मैं ऐसी हूँ तो बस आशीर्वाद बनायें रखियेगा कि सदैव ऐसी ही रहूँ... धन्यवाद...

    ReplyDelete
  28. जी बिलकुल, ये भी कोई कहने की बात है.

    ReplyDelete
  29. अंतर्मन को प्रभावित करती पंक्तियाँ ....सुंदर पोस्ट

    ReplyDelete
  30. kunwar kusumesh ji ne achi vyakhya ki hai pooja

    ReplyDelete
  31. @भैया... धन्यवाद बहुत-बहुत... कुंवर जी की आभारी हूँ...

    ReplyDelete
  32. सबसे पहले तो ब्‍लाग के इस सुंदर टैम्‍पलेट के लिए बधाई। और फिर इस कुछ हकीकत और कुछ फंतासी से भरी रचना के लिए साधुवाद। निश्चित ही इसमें कुछ तुम्‍हारे अनुभव भी होंगे। पर अपने अनुभवों को विस्‍तार देकर सबको प्रभावित करने वाली अभिव्‍यक्ति देना ही सच में लेखन है। चाहे फिर वह कविता हो,कहानी हो या कुछ और। मुझे लगता है इस कविता में तुमने इसे छूने का एक सफल प्रयास किया है। (मैं यहां तुम्‍हें या खुद को किसी रिश्‍ते मैं नहीं बांधना चाहता हूं। पर इतना जरूर कहूंगा कि तुम्‍हें तुम से संबोधित करना ही ज्‍यादा अच्‍छा लग रहा है बजाय आप के। आशा है इस के लिए अनुमति होगी।) शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  33. @राजेश जी... बहुत-बहुत धन्यवाद... जी, मैं हमेशा से ही जो देखती हूँ, महसूस करती हूँ, उसी पर लिखती हूँ...
    रही बात आपका मुझे "तुम " बोलने की, तो आप एकदम सही हैं...
    बस यूँही प्रेरित करते रहें...

    ReplyDelete
  34. oye hoye shoneyo, kee kitta re..........
    awesome, beautiful, great, too good, lovely......... bilkul teri tarah
    tu baat maan le meethi warna ham apne naam se publish karwa lenge, samjhi
    and yah this butterfly is just sooting you....... muaah..........
    all the luck and success baby

    ReplyDelete
  35. @archi... thank you so much sweety... baaki baatein hm phn par karen??? mujhe aapko pyaar se thank you bolna hai...

    ReplyDelete
  36. क्या कहूं ? निःशब्द !

    ReplyDelete
  37. संभवतः आप के ब्लॉग पर हमारी प्रथम उपस्थिति है. आपने स्तंभित कर दिया.!

    ReplyDelete
  38. @अरविन्द जी, सुब्रमनियम जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @सुब्रमनियम जी... मेरे लिए आपका नाम पहचाना-सा हूँ... शायद प्रोफाइल फोटो और टेम्पलेट में बदलाव के कारण आपको ऐसा लग रहा है...

    ReplyDelete
  39. bahut badhiya pooja ji..itni achchi rachna..aap aise hee likhti rahein..hamrai shubhkaamnaye aapke sath hain :)

    ReplyDelete
  40. बेहद प्रभावशाली लिखा है ...बहुत ही अच्छा.

    ReplyDelete
  41. आज के माहौल को देख कर एक सशक्त अभिव्यक्ति दी है ...सुन्दर और भाव प्रधान रचना .

    ReplyDelete
  42. अपने आस पास के परिवेश से उपजे मन को मथते और उद्वेलित करते अनुत्तरित प्रश्नों से उपजी पीड़ा को बेहद ही खूबसूरती और मर्मस्पर्शी ढंग से उकेरा गया है. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  43. उस्ताद बाल गोविन्द26 November 2010 at 00:12

    पूजा जी ,
    ९.५० / १०
    सुन्दर कविता और भावना प्रधान कविता के लिए इससे कम नंबर देना बचपना है !



    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी वास्तव में अत्यधिक दुबले पतले मरियल से दिखते हैं ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी अपने असली ब्लॉग में बिजनेसमैन बने हुए हैं ?
    क्या आप जानते है कि उस्ताद जी के सच्चे नाम से लाईट का क्या सम्बन्ध है ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी के असली ब्लॉग में उनका साइड पोज वाला फोटो लगा है ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी कानों के ऊपर बालों वाला फोटो बहुत पसंद करते हैं ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी मोहल्ला होशियारपुर ग्राम लखनऊ में रहते हैं ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी बोध कथाओं को हास्य कथा मानते हैं ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी अपने फर्जी ब्लॉग में माडरेशन लगाये हुए हैं ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी का गोविन्द से क्या सम्बन्ध है ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी पहेलियाँ किस नाम से बूझते हैं ?
    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी फर्जी आई डी क्यों बनाये हुए हैं ?

    ReplyDelete
  44. बहुत दिनों बाद ऐसा कुछ पढने को मिला , जिसे बार बार पढ़ा. शुक्रिया पूजा जी

    ReplyDelete

  45. पारँपरिक दोहे के निर्गुण भाव का
    वर्तमान परिदृश्य में दुर्गुणता के सँदर्भों का सोदाहरण उपयोग !
    आपकी कल्पनापूर्ण चतुराई की दाद देता हूँ ।

    ReplyDelete
  46. बहुत सटीक...प्रशंसनीय अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  47. भावों के तूफ़ान से भरी हुई एक बहुत ही बेहतरीन रचना है..... बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर दिया.... बहुत खूब!



    प्रेमरस.कॉम

    ReplyDelete
  48. @शैलेश, शिखा जी, संगीता जी, डोरोथी जी, संध्या जी, उस्ताद बाल जी, मासूम जी, डॉ. अमर जी, समीर जी, शाह नवाज़ जी.... आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया...
    @उस्ताद बाल गोविद जी... आप यहाँ मेरी रचना की तारीफ ही करने आये थे न??? या बाकी आपका signature है... परन्तु, बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  49. पूजा जी लगता है कालजयी कृ्तियाँ आज फिर से अपनी व्याख्या माँगती हैं। ये दोहा आज भी उतना ही प्रासांगिक है लेकिन आपकी व्याख्या ने इसे आज के संदर्भ मे कालजयी बना दिया। बहुत ही गहरे भाव लिये सुन्दर रचना। बधाई आपको।

    ReplyDelete
  50. @निर्मला जी... आपका बहुत-बहुत धन्यवाद... मैं तो बस कोशिश करती हूँ अपनी तरफ से...

    ReplyDelete
  51. बहुत ही सुन्‍दर भावमय प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  52. @सदा... बहुत-बहुत शुक्रिया...

    ReplyDelete
  53. सुंदर प्रस्तुति ...
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है ....!

    ReplyDelete
  54. @केवल जी... धन्यवाद... दोनों के लिए...

    ReplyDelete
  55. आपने विषय की मूलभूत अंतर्वस्तु को उसकी समूची विलक्षणता के साथ बोधगम्य बना दिया है। यह रचना व्यंग्य नहीं, व्यंग्य की पीड़ा है। पीड़ा मन में ज़ल्दी धंसती है।

    ReplyDelete
  56. @मनोज जी... बहुत-बहुत धन्यवाद... परन्तु मैंने कहीं भी इसे व्यंग कहा ही नहीं... ये तो मेरे आस-पास के अनुभव थे जो मैंने कागज़ में उकेर दिए...

    ReplyDelete
  57. बहुत दिनों बाद ऐसा कुछ पढने को मिला , जिसे बार बार पढ़ा. शुक्रिया पूजा जी

    ReplyDelete
  58. @अविनाश जी, अमृतवाणी, सतीश जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  59. उस्ताद जी ने सही ही तो कहा है, वास्तव में हां जी हां जी से बात थोडे ही बनती है-जहां तक कविता की बात है-कलापक्ष कमजोर है परन्तु कोई बात नहीं भावपक्ष सुद्रड है, प्रस्तुतीकरण, भाव संप्रेषण व विषय-विचार शानदार है।
    -----परन्तु सपनों को कभी डर कर छोडना नहीं है, यह नकारात्मक भाव छोडना चाहिये.....

    ReplyDelete
  60. Sundar vartman pradrashya ko ingit karti bhavpurn rachna..aabhar

    ReplyDelete
  61. समाज का कटु सत्य बताती पोस्ट है पूजा.... मार्मिक भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  62. @डॉ. श्याम जी, कविता जी, डॉ.मोनिका जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  63. @आदित्य जी... बहुत-बहुत शुक्रिया...

    ReplyDelete
  64. Mujhe samajh nahi aata ki aapki abhivyakti ko kis vibhusan se alankrit karun. Bahut hi sundar prastuti. Plz. visit my blog.

    ReplyDelete
  65. @प्रेम सरोवर जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  66. kahan se kahan pahuch gaye...:)

    lal ki lali ko kahan se kahan le gaye.........itna sach me kavi man hi kar sakta hai...badhai...

    ReplyDelete
  67. Now i follow ur blog....ab barabar aana parega..:)

    ReplyDelete
  68. @मुकेश जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  69. ........सशक्त अभिव्यक्ति
    वाह ..... पूजा गज़ब का लिखतीं हैं आप .......!!

    ReplyDelete
  70. bahut khoob pooja ...........me to fan ho gaya apka

    ReplyDelete
  71. @bhaiya... thank you so much
    but please ye "aap" bolna band kar dijiye aap...

    ReplyDelete
  72. kavita ke madhyam se sahi vishay ko uthhaya hai

    ReplyDelete
  73. Hi Pooja.
    Bahut he achche rachna he, aapke bhav and unki abhivayakati bahut is uttam and ucchya koti ke he

    ReplyDelete
  74. @सुनील जी, अंकुर.. बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  75. अरे यह पोस्ट तो मैंने पढ़ी ही नहीं थी, बहुत ही सारगर्भित रचना..... एक तरह का नया प्रयोग लगा.

    ReplyDelete
  76. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  77. @वंदना... पहले क्यों नहीं पढी :(
    कोई बात नहीं अब तो पढ़ ली न... :)
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  78. मुझे इस कविता के विषय में तो कोई टिप्पणी नहीं करनी है परन्तु इतना अवश्य कहना चाहता हूँ कि जिन गुणी-जनों ने भी इसकी प्रशंसा में अपने उदगार व्यक्त किये हैं वह भ्रामक प्रतीत होते हैं. कबीर जी के इस दोहे में लाल शब्द का सम्बन्ध लाल रंग से कतई नहीं है. इस दोहे में ईश्वर (मेरे लाल) की रचना (लाली) को सर्वोत्तम बताते हुए कबीर जी ने कहा था कि वह भी इस रचना में ढल कर वैसे (लाल) हो गए हैं. लगता है आप इस दोहे के सन्दर्भ से जुड नहीं पाई और इसको अपने ढंग से सोच कर ऐसी व्याख्या कर दी है. अतः इस कविता को दोहे से जोड़ कर प्रस्तुत करना उचित नहीं होगा ऐसा मेरा विश्वास है.

    ReplyDelete
  79. @anonymous... सर्वप्रथम, आप यदि अपना नाम बताते तो हमें ज्यादा आसानी होती आपको समझाने में... दूसरी बात शायद आपने कविता को सिर्फ यूँही देख और कमेंट्स पढ़कर अपना विचार प्रस्तुत कर दिया... यदि आप कविता को ठीक से, शुरू से पढ़ते तो इसमें पता चलता कि शुरू में इसमें लाल रंग की व्याख्या की गयी है... ऐसे ही तो है कि मेरी कविता के मायने मेरे लिए अलग और आपके लिए अलग हैं... रही बात कबीर जी के दोहे की तो आप शायद इस बात से अज्ञान हैं कि ऐसे महान संत की वाणी लोग यूँही समझ जाते थे, उसके लिए कोई भी पोथी पढने की जरूरत नहीं थी... आने के लिए धन्यवाद... अगली बार नाम एवं पहचान के साथ आयें, ख़ुशी होगी...

    ReplyDelete
  80. समाज का लड़की के प्रति नजरिये को पूजा जी आपने बहुत ही गहरे भाव उकेरे हें,मैं दाद देता हूँ आपके लेखन को, इन पक्तियों के साथ

    "तुम्हारी गली से उठ कर हम तो रोज़ सिहर जाते है,
    लेकिन हमको याद है तुमसे मिलने में दीवार बहुत,!"

    ReplyDelete
  81. @राज जी... बहुत-बहुत शुक्रिया...
    यूं पंक्तियों के साथ कमेन्ट के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  82. रक्तिम होता है
    खून भी खतरा भी
    खेल के रंग नहीं होते
    मेल के ढंग नहीं होते
    दुख के बीज बोते नहीं हैं हम
    सुख के बीज तो होते ही नहीं है
    खतरा ख्‍याली है
    पुलावी है
    पर लाल रंग डराता है
    पर भाता भी लाल रंग ही है
    लालिमा भी इसी से आती है

    ReplyDelete
  83. Bahut khooob laal rang 'payaar' ka aur laal rang 'khatre' ki tarah 'rukne' ka bhi to hai. In pehli do bhawnaon me jaane se pehle teesri bhawana ko yaad karna chahiye taanki fir kabhi dhokha na uthana pade. good poem . keep interacting .

    ReplyDelete
  84. nice creation.. mja aa gya....
    Bimal Raturi

    ReplyDelete