एक डरपोक ब्लॉगर से सामना...

कल बड़ी ही मजेदार घटना हुई... और न जाने क्यूं रह-रह कर मुझे अभी तक हंसी भी आ रही है... अच्छा आप में से कोई भी मुझे एक बात बताइए, यदि आप मेरे ब्लॉग पढ़ते हैं, जब सही लगता है तो तारीफ़ करते हैं और जब गलत तब मुझे बताते भी हैं... और जहाँ तक मुझे याद है, मैंने यदि गलती की है तो स्वीकार भी है, और उसे सुधारने की पूरी कोशिश भी की है, यहाँ तक कि जिन भी ब्लॉग में गयी हूँ, वह भी यदि किसी न लिखने वाले को गलती बताई है तो उसने मानी है... पर कल एक ब्लॉग पर गयी, वह कुछ ऐसी बातें लिखी गयीं थीं मै जिनसे बिलकुल भी सहमत नहीं थी, सो मैंने ऐतराज़ जताया, तब लिखनेवाले व्यक्ती न मुझे बड़ी ही अभद्रता से जवाब दिया, और-तो-और अपनी बात को सही साबित करने हेतु उन्होंने अजीब-सी बातें सामने रखीं, जब मैंने उन्हें भी काट दिया, उन बातों को गलत ठहराया और साबित भी कर दिया, तब रचयिता न बड़ा ही अजीब-ओ-गरीब जवाब प्रस्तुत किया, जो मुझे नागवार लगा... मैंने उसपर भी कटाक्ष किया और दूसरे तथ्य सामने रखे... तब उन्होंने मुझे वापस उत्तर नहीं दिया... रात हो चुकी थी सो मुझे लगा कि शायद उन्होंने निद्रासन की और प्रस्थान कर लिया... पर आज सुबह जब मैंने उनके उत्तर हेतु उनका ब्लॉग विसिट किया... तो जवाब तो नहीं ही थे, मेरे कमेंट्स भी मिटा दिए गए थे...
अब मुझे ये समझ नहीं आ रहा कि उन्होंने ऐसा क्यूं किया??? या तो डर, कि उन्होंने फ़िर कोई जवाब दिया और मै उसे भी गलत साबित कर दूंगी या फ़िर वो निरुत्तर होंगे... परन्तु मेरे कमेंट्स मिटने का अर्थ मुझे अभी-भी समझ नहीं आया...
जहाँ तक मैंने इस ब्लॉग की दुनिया को जाना है, सीधी-सी बात कि यहाँ आपसे भी होशियार लोग हैं, तो उनकी बातें सुननी चाहिए... और हो सकता है आप जो कर रहे हो गलत हो, तो मानना भी चाहिए... परन्तु अपने-आप को सही साबित कने के लिए कभी-भी अभद्रता का, या ऐसे किसी कार्य का सहारा नहीं लेना चाहिए जो आपके डर को, आपके अहम् को प्रस्तुत करे...
मैंने तो जो कुछ, थोडा-बहुत सीखा है यहीं आप लोगों से ही सीखा है, क्योकी मेरे पास कोई लेखकों का आधार नहीं है... सही मायनों में, मेरे घर पर सिर्फ लोग सिर्फ पढ़ते हैं या पढ़ा हुआ लिखते हैं... उन्हें लिखने में कोई रूचि नहीं है...
हो सकता है यहाँ कुछ लोग मेरी बातों से सहमत न हों, तो कृपया मुझे बताएं... आपके कमेंट्स का स्वागत है...
धन्यवाद...

70 comments:

  1. Do not worry keep doing what you like.Don't worry what people do and say
    Sab se badaa rog kyaa kahenge log.
    Thanks for your comments:
    Few more poems ,which probably you have not read:जुबान
    उनकी बातों को दिल से ना लगाना
    उन्हें तो आता है सिर्फ मखौल उड़ाना

    उनकी बेबसी पर तरस आता है"निरंतर"

    कितने सताए गए होंगे?
    कितने निराश हुए होंगे ?

    जुबान की मिठास ही खो दी

    दुआ करता हूँ खुदा उनको सुकून दे
    मीठी जुबान उन्हें वापस कर दे
    09-08-2010
    सोचता तो हूँ
    सोचता तो हूँ"निरंतर",
    पर बोलता नहीं,

    बोला तो समझेगा नहीं कोई,

    सच कोई सुनना नहीं चाहता,
    झूठ बोला नहीं जाता

    वो वक़्त भी आयेगा

    जब सच सुनना होगा,
    झूठ से बचना होगा,

    मुझे जानना होगा ,
    मुझे पहचान ना होगा....
    08-08-2010
    अंदाज़
    कल क्या होगा किसने जाना
    किसे जाना, किसे पहचाना
    जो करना है वो कर ले आज
    जिंदगी जीने का "निरंतर"
    अपना तो है यही अंदाज़
    07-08-2010

    ReplyDelete
  2. वैचारिक पराजय किसी को नही पचती है .
    हाजमोला खाओ , सब हजम

    ReplyDelete
  3. @Dr. Rajendra ji N Abhishek ji... thank you for comments...
    @Dr. Rajendra ji... parantu aapne jo likha usme to aapko poora confidence hona chahiye na...
    @Abhishek ji... baat vaicharik matbhed kee nahi, waran sahi galat hone kee hai... Dhanyawaad...

    ReplyDelete
  4. पूजा,
    बधाई कि आपने यह बात यहां अपने ब्‍लाग पर उठाई। मैंने आपकी टिप्‍पणियां वहां देखीं थीं। मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं है कि मैं भी आपके तर्कों से सहमत हूं। बल्कि यह कहूं कि अगर विस्‍तार में कहना चाहता तो मैं भी कुछ इसी तरह की बात कहता।
    संयोग से केवल आपकी ही नहीं मेरी टिप्‍पणी और उस पर ब्‍लागर का जवाब और ऐसे कई अन्‍य लोगों की टिप्‍पणी वहां से हटा दी गई है जो उस पोस्‍ट में व्‍यक्‍त विचारों से सहमत नहीं थे। और अब तो वहां नए कमेंट की भी मनाही है।
    मैंने अपनी बात ब्‍लागर को ईमेल के जरिए भेज दी है।
    और आपकी इस पोस्‍ट का शीर्षक- डरपोक ब्‍लागर से सामना- की बजाय- एक डरपोक ब्‍लागर का पलायन- होना चाहिए। सामना बहादुरों से होता है डरपोकों से नहीं।

    ReplyDelete
  5. आपकी पोस्ट में उस ब्लॉग या ब्लॉगर का जिक्र रहता तो बात ज्यादा स्पष्टता से समझ सकते थे। इसी तरह का अपना एक अनुभव बताता हूँ। कल एक पोस्ट देखी, असहमति थी तो अपनी समझ से कुछ कमेंट किया। उन सज्जन ने मेरे अलावा और भी बहुत से कमेंट डिलीट कर दिये। हमने तो खैर कल रात दोबारा कमेंट किया, बाकायदा सेव करके, वो अभी तक बचा हुआ है। लिंक ये है -
    नया जमाना
    सवाल ये है कि जब आलोचना या असहमति बर्दाश्त नहीं है तो या तो कमेंट ले ही नहीं या मोडरेट करें। हां, भाषा अशालीन या अमर्यादित है तो जरूर हटायें।
    आपकी बात पर कोई राय नहीं और अपना दुखड़ा रो दिया, हा हा हा। आप भी चाहें तो डिलीट कर सकती हैं:)

    ReplyDelete
  6. हा..हा..हा...हा...हा....यहाँ ऐसा ही है.....धरती पर सब-के-सब स्वनाम-धन्य बुद्धिमान तो होते ही हैं....बेशक यह उन्हें पता हो-ना-हो कि वो कितने पानी में हैं....!!!है ना....???

    ReplyDelete
  7. @Rajesh ji... ji bas aap samajhh gaye...baat wahi ki hai...Aur "PALAYAN" shabd kee baat acchhee lagee, parantu saamna isliye likha kyonkee wo abhi bhi aham ke sinhasan par hi viraajmaan hain... Dhanyawaad...

    ReplyDelete
  8. @Mo Sam Koun ji... nahi nahi aapka comment delete karne kee baat hi nahi hai... maine isiliye post par hi dhanyawaad de diya hai... rahi baat unka zikra yaha na karne kee to wajah yah hai kee unkee post mujhe na to acchhe lagee aur na hi insaan... unme ego hai, aur mere Nana ji kahte the ki koi buree cheez apne paas bhi phatakne mat do khaastour wo jisme aham ho warna aap par uska asar hone lagta hai... haan yadi aapko unhe padhna ho to kripya apna mailing address de mai link awasyha send kar doongee...

    ReplyDelete
  9. @Rajeev ji... baat to sahi hai... parantu apni budhhee ka upyog yadi aap acchhe soch mei lagaye tab to baat hai... aur yadi aap doosron ko kah rahe hai to sunne kee kshamta honee chahiye... aane hetu dhanyawaad...

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  11. कुछ लोग अपनी आलोचना से आक्रामक हो उठते हैं ...मगर इससे क्या ?
    छोडिये आगे बढिए !

    ReplyDelete
  12. ब्लॉग या ब्लॉगर का जिक्र रहता तो बात ज्यादा स्पष्टता से समझ सकते थे।

    ReplyDelete
  13. अक्सर ये बाते देखने को मिलती है की जब हम किसी की लेख या रचना पर टिपण्णी करते है और वो टिपण्णी रचनाकार को पसंद नहीं आती तो उनकी और से उल जुलूल बाते को आधार बनाकर तर्क प्रस्तुत किये जाते है और जब उसमे भी बात नहीं बनती तो या तो आपके कमेंट्स को नजरंदाज कर दिया जाता है या पूरी की पूरी टिपण्णी ही गायब कर दी जाती है ! कुछ ऐसा ही मेरे साथ भी हुवा हद तो तब हो गयी जब मेरे नाम से टिपण्णी लिख कर दुसरे के ब्लॉग में पोस्ट की गयी जिसमे इतनी अमर्यादित और अश्लील भाषा का उपयोग किया गया था की पड़कर बहुत बुरा लगा जिसके ब्लॉग में टिपण्णी पोस्ट की गयी थी मुझे उससे माफ़ी भी मागनी पड़ी!

    ReplyDelete
  14. चतुर्वेदी जी ने तो कल मेरी भी 2-4 टिप्पणियाँ उड़ा दी थीं…

    ReplyDelete
  15. kadwai dawai har bacchha nahi pee sakata hai --

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  19. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  20. @Anonymous... mai aapke comments delete kar rahi hu... karne ka kara bhi bata deti hu, blog mera hai aur mai kisi blogger ka naam nahi lena chahtee to aapko hak nahi banta ki aap aisa kaam kare, doosree baat ki abhdra bhasha ka prayog har kisi ko aata hai parantu use upyog mei lana mere fitrat nahi... jo ki aapne kiya... gadangee karna aur rakhna dono mujhe pasand nahi hai... haan aap apne naam ke saath hote to baat kuchh hoti shayad...

    ReplyDelete
  21. @Arvind ji, Sanjay ji, Amarjeet ji, Suresh ji, Poorviya ji... aap sabhi ka dhanyawaad...
    @Sanjay ji... us blogger ya blog ka zikra na karne kee wajah maine already oopar ek bandhu ko de di hai... kripya dekh le... waise dhanyawaad...

    ReplyDelete
  22. @ZEAL... ghatiyapan kee had jaisi baaten aapke muh se acchhee nahi lagateen, aur shayad aapne padha nahi ki mujhe hasi aa rahi hai, jo aapko yaha dekhkar fir se aane lagee... aur aapkee id ka blog banakar mai apni hi nazaron mei nahi gir saktee kyonkee duplicacy hame nahi sikhai gayi, hamme himmat hai so yaha likhee apni baat... aur yahan to aapka naam hai hi nahi fir aap khud ko kyoon har jagah prastut karne khadi ho jaatee hain ya akai sharmanaak baate sunne ka shouk hai...
    saarthak lekh mere liye wahi hai jo mujhe acchha lage aur saath hi saath kisi k man ko thes na pahuche aur mai wahi likhtee hu jiske jawab mere paas hote hain... rahi baat kavita likhne kee to aap uskee chinta na kare, mai wo karya kar rahee hu, aur mujhe kis subject par likhna hai ye mai decide karungee... sahanubhooti apne paas rakhe, aapko hamesha jaroorat padegi... haan sabse jarooree baat... aaindaa yaha na aaye... ye blog mere liye us ghar jaisa hai jaha mai gande log bardasht nahi kar saktee... vinamra nivedan kar rahi hu... dhyaan rakhiyega...

    ReplyDelete
  23. कुछ समझ नही आता पूजा जी ऎसा क्यों होता है? वैसे मुझे लगता है आप परेशान न हों। ये जरूरी नही की हर बात हमारी मर्जी से ही हो।

    ReplyDelete
  24. @NK... ji aapki baat shai hai... mai pareshaan nahi hu, bas kabhi-kabhi faaltoo mei logo pareshaan dekhtee hu to aascharya hota hai... padharne ke liye dhanyawaad...

    ReplyDelete
  25. @ALL... yaha se teen comeents delete kiye gaye hai... do ka karan mai bata chukee hu, and teesra jo ZEAL naam se hi tha, wo fake account bataya gaya hai...

    ReplyDelete
  26. पूजा जी, वहाँ से कई टिप्पणियाँ हटाई गईं.. राजेश उत्साही जी ने सही कहा.. जिसके भी विचारों से उनकी सहमति नहीं थी उनकी टिप्पणी गायब कर दी गई.. आपकी पोस्ट पढ़कर मुझे संदेह हुआ तो मैंने भी वहाँ देखा कि मेरी टिप्पणी भी अंतर्ध्यान हो गई.. :) खैर फिर भी तो उन्हें शर्म नहीं आ रही.. आपको नसीहतें मिल ही रही हैं. वैसे पहले मेरे मन में उनके लिए सम्मान था मगर अब उनके अस्तित्व पर ही अविश्वास होने लगा है. वो ब्लॉग किसी एक विचारक का ना लग कर एक सामूहिक ब्लॉग लगने लगा है. अफ़सोस है कि कई युवा उनसे बहुत ही प्रभावित हैं.. बल्कि अंधभक्त जैसे हो गए हैं जो उनके हर लिखे को सही मान अन्य लोगों से कुतर्क के लिए हर पल खड़े दिखते हैं.
    खुश रहिये कि बहुमत अभी भी सत्य के साथ दिख रहा है.. आप निराश ना हों.

    ReplyDelete
  27. कहाँ की बात हो रही है..मैं समझ ही नहीं पा रहा है.

    ReplyDelete
  28. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  29. Dear Puja...

    मै हमेशा ब्लॉग जगत में नहीं आती इसलिए पता नहीं कि क्या माज़रा है ..

    ReplyDelete
  30. पूजा जी, आप ने गलती की है, दिव्या के ब्लॉग पर जाकर. आप देखिएगा की ब्लॉग जगत की ज्यादातर सभ्य महिलायें दिव्या के ब्लॉग पर नहीं जातीं हैं. दिब्या के बारे में सभी महिलायें जानतीं हैं. और जो पुरुष जाते हैं वो ब्लॉग जगत में गिनती में नहीं आते. सभ्य पुरुष भी नहीं जाते हैं.

    ReplyDelete
  31. @Deepak ji, Udan Tashtari ji, Coarl and jaljala... thank you so much for your views...
    @Udan Tashtari ji and Coral... nothing much important... bas yunhee...
    @Deepak ji... hmmm... Satyamev jayate... khair hataiye kya karna... meri MAA ne sirf ek baat kahi "RAAM KRIPA AAPAN GAT PAINHEE"
    @Jaljala... ji dhanyawaad information k liye... mai is baat ne avgat nahi thee... maine unkee kuchh rachnaye padhee thee jo mujhe acchhee lagee thee... par ab to sawaal hi nahi uthhta us gali jaane ka...

    ReplyDelete
  32. चिट्ठाजगत में इस पोस्ट को ऊपर देख चला आया |
    एक विसंगति पर पोस्ट लगी , इसलिए आरम्भ से टीप-दर-टीप पढ़ता गया !
    सन्दर्भ-प्रसंग से अवगत नहीं हूँ , इसलिए घटना विशेष पर कुछ नहीं कह सकता !

    एक निजी राय यह कहूंगा कि जो ब्लोगेर आपकी तार्किक असहमतियों का सम्मान न कर सकें व उन्हें स्थान न दे सकें , वे बहुत दुर्भाग्यशाली होते हैं ! विवेकहीन होकर ऐसे दुर्भाग्यशाली ब्लोगेर की कोटि में कोई भी आ सकता है , हम , आप या कोई भी ! ऐसे प्रसंग स्वयं की सीख के लिए खासे लाभकारी हो सकते हैं ! यदि आपको अपनी तार्किक असहमति के सांचपने पर पूर्ण विश्वास है तो कोई मनो-मालिन्य न रखें ! शिव संकल्प लीजिये ! अंततः कहूंगा ---
    '' उत्तिष्ठ जाग्रत प्राप्य वरान्नि बोधत.
    क्षुरस्य धारा निशिता दुरत्यया
    दुर्गं पथस्तत्कवयो वदन्ति. [ ~ कठोपनिषद ]

    ReplyDelete
  33. पूजा जी , दिव्या खाली है. फ़ालतू है. वो केवल नाम की डॉक्टर है. है भी इसमें भी काफी लोगों को शक है. और जो वो लिखती है. वो उसी का ही है इसमें भी लोग शक करते हैं. वो जो भी लिखती है , केवल खालीपन और बेरोजगारी में ही लिखा जा सकता है. दिव्या ने कई ब्लॉगर पुरुषों को फंसाया. और यह बात सारा ब्लॉग जगत जानता है. इसलिए सभ्रांत महिलायें दिव्या के ब्लॉग पर नहीं जाती हैं.

    और यह बात आप किसी भी ब्लॉगर से पुष्टि कर सकतीं हैं.

    ReplyDelete
  34. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  35. @ZEAL... lastly... aapke liye oopar hi jawab likh diya tha... samajhdaar insaan aapke comments delete karne kee wajah oopar hi padhkar samajh jayega...

    ReplyDelete
  36. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  37. Pooja
    Technically any one can post comments on your blog and use someone elses profile because all option have been enabled .

    ReplyDelete
  38. दिव्या यह भी तो सोचो की आखिर तुम्हारे साथ ही ऐसा क्यूँ हुआ है? तुम यहाँ पूजा जी को इतनी नसीहतें दे रही हो, उन नसीहतों को खुद पर भी लागू करो. तुम खुद को सुधारो. यह ध्यान रखो की अगर हम अच्छे हैं तो सब अच्छे हैं, हम खराब तो सब खराब. वो तुम्हारे नाम से कोई फर्जी टिपण्णी नहीं थी वो तुम्ही ने की थी. और हल्ला मचा दिया की किसी और ने वो तुम्हारे नाम से फर्जी आई. डी. बनायीं है. आखिर क्यूँ तुम्हे पूरा ब्लॉग जगत एक खराब औरत के रूप में जानता है? यह भी तो सोचने वाली बात है.

    ReplyDelete
  39. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  40. @ दिव्या,

    तभी तू निठल्ली बैठ कर ब्लॉग्गिंग कर रही है और लड़कों के साथ खेल रही है. तू मूरख है यह तू मान ले. अगर मूरख नहीं होती तो प्रेक्टिस कर रही होती. पेशेंट में बीजी होती.

    ReplyDelete
  41. @ Divya

    एक तू ही सही मानसिकता वाली है बाकी सब तो यहाँ बेवकूफ है. बाकी सब अपना घर संभाल रहे हैं और तू दुसरे लड़कों को फंसा रही है. अपने पति को छोड़ कर.

    ReplyDelete
  42. पूजा जी,
    क्या ऐसा संभव नहीं कि व्यक्तिगत टिप्पणियाँ बंद करदें please ?
    अच्छा नहीं लग रहा है.

    कुँवर कुसुमेश

    ReplyDelete
  43. कुछ ऐसा लग रहा है ये हमारे ब्लॉग जंग का मैदान बनते जा रहे हैं. ब्लोगर साथियों ऐसे कमेन्ट को विषय मत बनाइये बल्कि उनको किसी की दिमागी खुराफात समझ कर नजार अंदाज कर देना चाहिए. इसी में भलाई है नहीं तो अच्छा खासा माहौल गन्दा हो जाता है.
    पूजा बात को यही बंद कर दो नहीं तो इस तरह की बहस पर मैंने सैकड़ों टिप्पणी देखी हैं और नतीजा क्या होगा? पोस्ट क्या हैं सब भूल गए और यहाँ पर तो टिप्पणी पर बहस होने लगी है. मुझे भी मूल पोस्ट पता नहीं क्योंकि मैं कम खोजपाती हूँ

    ReplyDelete
  44. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  45. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  46. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  47. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  48. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  49. दिव्या,

    तुम खराब हो यह जलजला ने नहीं कहा. तुम्हे हर महिला और पुरुष खराब कहते हैं ब्लॉग जगत में. इस बात की तस्दीक चाहे पूजा जी या वंदना जी या कोई भी किसी भी ब्लॉगर से पूछकर कर सकतीं हैं.

    ReplyDelete
  50. तुमने तो वो पोस्ट लगायी है जो कभी कोई शरीफ महिला लगा नहीं सकती है. यह बात समस्त ब्लॉग जगत जानता है.

    ReplyDelete
  51. मैंने कोई गन्दी बात नहीं लिखी है , जो लिखा है उसे सारा ब्लॉग जगत जानता है.

    ReplyDelete
  52. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  53. दिव्या, तुमने किस किस से सेक्स चैट की है, उसका भी डाटा है. अगर तुम बोलोगी तो उसे मैं अपने ब्लॉग पर छाप भी सकता हूँ. लेकिन उसमें अमरेन्द्र , सुनील गुरी , त्रिपाठी और भी अन्य लोगों की बेइजती होगी. फिर इन्ही लोगों को बदनाम करना क्या सही है. और सबसे बड़ी बात यह बात भी समस्त ब्लॉग जगत जानता है. सब केवल चुप हैं.

    ReplyDelete
  54. जो महिलायें तुम्हारे ब्लॉग पर आतीं हैं , उन्हें तुम्हारी असलियत मालूम नहीं है. जैसे पूजा और वंदना को नहीं मालूम है. और अभी तुमने पूजा को घटिया कहा. देख लो अपनी औकात. जिस दिन उन महिलाओं को भी तुम्हारी असलियत पता चल जाएगी वो भी आना छोड़ देंगीं.

    ReplyDelete
  55. .

    जलजला और पूजा,

    किसी को बदनाम करना बहुत आसान काम है।

    मैं तुम दोनों के मुह पर थूकती हूँ।

    घटिया लोगों के मुह लगना अपनी बेईज्ज़ती है।

    मेरे नाम पर बहुत से लोग लोकप्रिय होने की कोशिश कर रहे हैं , तुम दोनों पर मुझे दया आ रही है।

    मैं जा रही हूँ...तुम दोनों अकेले भूँको अब ।

    टिपण्णी डिलीट करो चाहे चाटो ।

    अलविदा !

    .

    ReplyDelete
  56. ब्लॉग जगत में तुम लोकप्रिय नहीं हो. तुम कुख्यात हो. किसी से भी पूछ लो कि क्या तुम लोकप्रिय हो? जवाब मिल जायेगा. तुम्हे सब एक प्रौस के रूप में जानते हैं.

    ReplyDelete
  57. तुम्हारी इतनी औकात ही नहीं है कि जिस पर लोकप्रिय हुआ जाए. तुम्हारे बालों में गजरा और होठों पर लाल लिपस्टिक ही अच्छी लगेगी. यहाँ क्या कर रही हो? और सब तुम्हे इसी निगाह से देखते भी हैं.

    ReplyDelete
  58. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  59. बदनाम तो तुमने भी अमरेन्द्र को किया था आसानी से. समस्त ब्लॉग जानता था और उसके साथ खडा था. तुम्हे कौन बदनाम करेगा तुम तो पहले से ही बदनाम हो.

    ReplyDelete
  60. वंदना अभी आप जानती नहीं हैं इस औरत के बारे में. इसने पहले क्या क्या गुल खिलाये हैं यहाँ. आप किसी से भी पूछ लीजिये यहाँ , सब बताएँगे आपको.

    ReplyDelete
  61. दिव्या, ab बताओ घटिया कौन? अगर तुमने पूजा को यहाँ या फिर किसी और को यहाँ घटिया या फिर कोई अपशब्द कहा तो सबकी (जिन जिन के नाम ऊपर लिखे हैं) चैट पोस्ट कर दूंगा फिर देती रहना जवाब सबको.

    ReplyDelete
  62. सब कुछ बहुत शर्मनाक है. यह सब जल्दी से जल्दी बंद होना चाहिए. कुछ लोगों के लिए बहुत आवश्यक है कि वो आत्मावलोकन करें. नकारात्मक ब्लागिंग से बचें.
    मेरी भी तीन टिप्पणियाँ हटाई गयीं. मैंने तो कोई अपशब्द या अभद्र बात नहीं कही थी. फिर क्यों ? क्या असहमति दर्शाना भी गुनाह है ? यह मानसिकता बदलनी बहुत ही जरूरी है.

    ReplyDelete
  63. Pooja

    I am a reader of Divya's blogs.
    I am coming here for the first time.
    I have not read your blogs before.
    I hope to read them in future.


    I am deeply distressed at this public spat between you and Divya.

    I don't know who is right, and who started the fight.
    I don't want to know.
    I am requesting both of you to put down your knives and pick up your pens.
    You are bloggers, not fighters.

    If you don't see eye to eye with each other, simply avoid each other's blogs and don't comment on each other.

    Why torture yourselves like this?
    Well wishers like me are distressed.
    Mischief mongers are enjoying the tamaasha.

    I hope peace prevails and you both shake hands and make up.
    I hope this is not misconstrued as an attempt to interfere in other people's business.
    I am only trying to be a well meaning intermediary.

    Regards and best wishes.
    G Vishwanath

    ReplyDelete
  64. 'जी' विश्वनाथ तुम दिव्या के बैकयार्ड मे ही अच्छे लगते हो ! पिघली हुई मोमबत्ती थाईलैंड जाकर मसाज करवा लो !

    ReplyDelete
  65. Mr. vishvanath, all the bloggers know very well that you are after that N Y M P H . Don't behave like maggot. You are very senior person so behave as and according to your age. You don't know that bitch who embroils young boys into her net and then tries to seduce, if not get success then use to defame them in disguise.

    ReplyDelete
  66. you are right benaami,'young single boys' are her target.I too got emails from her.

    ReplyDelete