वो कलम...


काश ऐसी कलम ईज़ाद हुई होती
जो बस यूँही
चलती रहती बिना रुके
और मन की हर बात
लिख जाती
बिना चुप हुए बीच में...

जिसे सोचना न पड़ता
कि, किस बात को लिखना है किस तरह???

वो तो बस
चलती मदमस्त पवन की तरह
और उड़ा ले जाती
इस गम और ख़ामोशी के बादलों को कहीं दूर...
या बहती उस चंचल नदिया की तरह
जो सारे कलरव खुद में समेटती
अग्रसर होती है अपनी मंज़िल की ओर...
और एक दिन,
शांत हो जाती है मिलकर
उस अथाह समुद्र से
जो न जाने
कितनों का दुःख,
कितना शोर समेटे हुए है
अपने-आप में...
परन्तु तब भी शांत है...

पर कभी-कभी वो भी उछाल मारता है
लांघ कर अपनी सीमा
जताता है शायद,
कि,
अब उसका भण्डार भर गया है
या
उसकी कलम भी कहीं खो गयी है...

45 comments:

  1. वाह /
    अद्भुत कल्पना ...पूजा जी /
    काश ऐसी कलम हो

    ReplyDelete
  2. @बब्बन जी, बस उसी की तलाश में हूँ...
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  3. चोर चोर मोसेरे भाई
    देश में सबसे बढ़ा संचार घोटाला हुआ इस पर भाजपा का संसद में शोर शराबा हुआ और जे पी सी की मांग को कोंग्रेस लगातार तानाशाहों की तरह ठुकराती रही ऐसे घोटाले पहले भी हुए हें कोंग्रेस सरकार के पूर्व मंत्री सुखराम के खिलाफ तो इस घोटाले में पकड़े जाने के बाद मुकदमा चला और सजा हुई , भाजपा शासन में ऐसे ही घोटालों में पूर्व मंत्री स्वर्गीय प्रमोद महाजन पर अरबों रूपये के आरोप लगे और फिर उनसे इस्तीफा लिया गया , भाजपा के ही अरुण शोरी को आरोपों के बाद पद से हटाया गया अब ऐ राजा इस भ्रस्ताचार की गिरफ्त में हे लेकिन देश के बढ़े उद्योगपति जो इस घोटाले में शामिल हें उन रतन जी टाटा ने सुप्रीम कोर्ट की हाँ में हाँ मिलाते हुए कहा हे के संचार घोटाले मामले की जाँच वर्ष २००१ से होना चहिये रतन टाटा ने ऐसा क्यूँ बयान दिया हे वेसे तो सब जानते हें लेकिन जब रतन टाटा ने गेर जरूरी तोर पर इस मामले में प्रधानमन्त्री मनमोहन सिघ की वकालत की तो बात साफ़ हो गयी और सब जान गये के रतन टाटा ने यह बयान दिया नहीं बलके उनसे यह बयान किसी दबाव में दिलवाया गया हे ताकि भाजपा जे पी सी की मांग से बेकफुट पर आजाये और कोंग्रेस भाजपा चोर चोर मोसेरे भाई की तरह तू मेरी मत कह में तेरी नहीं कहूँ की तर्ज़ पर खामोश हो जाए । अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

    ReplyDelete
  4. @अख्तर जी... इस घोटाले का मेरी कविता से कोई लेना-देना नहीं है... और न ही मैं इस घोटाले में शामिल हूँ...

    ReplyDelete
  5. क़लम एक क़लमकार के लिए महत्वपूर्ण अस्त्र है.वो अपनी क़लम के ज़रिये वो चमत्कार कर दिखाता हैं जो अस्त्र-शस्त्र नहीं कर पाते .
    क़लम पर कविता के माध्यम से जो सन्देश पूजा ने दिया है वो एक समर्थ रचनाकार ही दे सकता है.
    समन्दर के दर्द पर मुझे किसी का एक शेर याद आ रहा है:-
    कह रहा है मौजे-दरिया से समन्दर का सुकूं,
    जिसमें जितना दर्द है उतना ही वो खामोश है

    ReplyDelete
  6. बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी ..
    काहें कलम को कोस रही हैं वह तो बेचारी कनीज है भावनाओं की .

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब .सुंदर रचना

    ReplyDelete
  8. @कुंवर जी, अरविन्द जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @कुंवर जी... शेर के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया...
    पर आपसे फ़िर से विनती है, इतनी तारीफ मत किया करिए... मैं इस काबिल नहीं हुई हूँ अभी...
    @अरविन्द जी... मैं उसे कोसूं तो कोसूं कैसे... वो ही तो मुझे बाहर ले आती है...
    और नहीं कुछ करती... एक गुज़ारिश के सिवा...

    ReplyDelete
  9. @मासूम जी... जी शुक्रिया...

    ReplyDelete
  10. भाव समझने वाली कलम होती तो प्रारम्भ करने के बाद स्वयं ही लिखती रहती।

    ReplyDelete
  11. @प्रवीण जी... वही तो मांग रही हूँ...
    शुक्रिया...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर रचना !बधाई।

    ReplyDelete
  13. आपके पास ऐसी कलम है, तभी तो आप इतना अच्छा लिख पाती हैं।...आपकी कलम को सलाम।

    ReplyDelete
  14. आत्मा को शस्त्र नहीं काट सकता
    अग्नि नहीं जला सकती
    पानी नहीं गला सकता
    हवा नहीं सुखा सकती
    आत्मा अमर है ... आत्मा एक कलम है , जिसकी नोक भावनाओं की धार पर होती है , कलम ,जो ---
    शस्त्र को काट सकता है
    अग्नि को शांत कर सकता है
    निर्मल पानी का स्रोत हो सकता है
    हवा को संगीतमय कर सकता है

    ReplyDelete
  15. kalam hamari bhavnaon ko samajh leta hai aur uske chalte hi kagaj rupi sakhi sab kuch aatmsat kar leti hai

    ReplyDelete
  16. @परमजीत जी, महेंद्र जी, बड़ी माँ, संध्या जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @बड़ी माँ... पंक्तियों के बहुत-बहुत शुक्रिया...

    ReplyDelete
  17. Aisi mahachamatkari qalam mile to ek mere liye bhi bhijva dena! Aajkal dimag ke darwaze band pade hain!

    ReplyDelete
  18. bhut khoob kalpana......kavi ko ho gaya lekhni se pyaar......read my poem "kavi ka pyaar"....on kaavya kalpna

    ReplyDelete
  19. bahut anokhaa vichaar hai.aisee kalam ho bhee to unhee hathon se chalegee ek nirlipt dimaag ke ishaaron par chaltee ho.

    mere blog par aane kaa shukriyaa.

    ReplyDelete
  20. कभी कभी मन में इतना ज्वार होता है कि पन्नों पर उतर नहीं पाता ...उसी समय ऐसी बेबसी महसूस होती है ....बहुत अच्छी रचना ...

    ReplyDelete
  21. काश!ऐसी कलम बनजाये .... बहुत सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  22. बहुत सार्थक ...विचारणीय कविता शुक्रिया

    ReplyDelete
  23. मन की कलम है ना.. सुन्दर कविता..

    ReplyDelete
  24. दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    सादर

    ReplyDelete
  25. कलम तो माध्‍यम भर है। असली बात तो हमारी भावनाओं,विचारों और आत्‍मा की है। वह तुम्‍हारे पास है बस उसकी स्‍याही मत सूखने दो। अगर उसमें कुछ भी न हो तो कलम क्‍या करेगी।

    ReplyDelete
  26. Dil ko chhu gayi yeh rachna, sahi kaha aapne aatma ek kalam hai!

    ReplyDelete
  27. pooja mujhe bhi aisi kalam chahiye...
    jo hamesh chalti rahe

    ReplyDelete
  28. bahut pasand aai kavita ...bhaiya khush huye.

    ReplyDelete
  29. सुन्दर प्रस्तुति
    बहुत - बहुत शुभकामना

    ReplyDelete
  30. @क्षमा जी, सत्यम जी, उन्कवि जी, संगीता जी, पाताली, महफूज़ जी, केवल जी, अरुण जी, यशवंत जी, राजेश जी, सुनील जी, भैया, दीप जी.. आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @क्षमा जी... जी जरूर...
    @भैया... मतलब विचार मिलते हैं...

    ReplyDelete
  31. पूजा जी,
    बहुत सुन्दर कविता है ... कलम तो मदमस्त पवन की तरह ही चलना चाहिए ...

    ReplyDelete
  32. पूजा जी ,
    कलम के माध्यम से आपने जिस अभिव्यक्ति को मुखरित करने की कोशिश की है मैं उसे नमन करता हूँ !
    बहुत बहुत बधाई !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  33. Sunder kavita ke liye ek bar fir se .....dhanyawaad
    ........dher sari subhkaamnaye

    ReplyDelete
  34. कलम के माध्यम से भावों का सुन्दर चित्रण्।

    ReplyDelete
  35. जैसी भी हो आपकी कलम(लेखनी) कमाल की है . सुन्दर बिम्ब प्रयुक्त किया है. आभार

    ReplyDelete
  36. @इन्द्रनील जी, ज्ञानचंद जी, भैया, शेखर जी, वंदना जी, आशीष जी... बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  37. gud work.....

    u r welcome in my blog...

    http://www.kawyasagrwithneal.blogspot.com

    ReplyDelete
  38. @Kumar ji and Nilotpal... thank you so much...

    ReplyDelete
  39. waah ye aapki kalam ko kahun ki aapko? behad sundar likha hai tumne.

    ReplyDelete
  40. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति ।

    ReplyDelete