और माई चली गई...

सुबह ही तो ज़रा-सी तबियत बिगड़ी थी... सिर्फ सर ही घूमा, थोड़ी-दी उल्टी हुई... पर रात में तो खाना खाई थी... अचानक... रात को 11 बजे... वो हम सब को छोड़ कर चली गई...
न जाने और क्या-क्या अचानक होगा???
पूरी तरह plan बनाया था कि, इस बार उनसे मिलने ज़रूर जाउंगी... और मन भी बहुत था उनसे मिलने का...
वैसे तो वो मेरे दोस्तों की "दादी" थी, पर वो दोनों भी उन्हें माई बोलते थे इसीलिए वो सबकी माई बन गई थीं...
परसों रात से न तो किसी काम में मन लग रहा है और न ही उन दोस्तों से बात करने की हिम्मत हो रही है...
वो कुछ दिन और रुक जाती तो मिल तो लेती मैं...
सब न कहा कि कुछ लिख, पर मन ही नहीं हुआ... सोचा मन हटाने के लिए पुरानी कविताओं को पूरा करने की कोशिश करूँ, पर जो शब्द लिखे थे वो भी समझ नहीं आ रहे थे, आगे लिखती कैसे???
सच कहूँ तो यहाँ भी यूँही लिखे जा रही हूँ जो भी मन में आ रहा है... जाने कौन-सा शब्द किससे मिल रहा है, या नहीं... कोई चिंता नहीं... कुछ नहीं...
परसों रात ही लग रहा था भाग कर जाऊं और उनसे ऐसे ही लिपट कर रो लूं... पर शायद बदकिस्मती ये ही कहलाती है... और मन, वो तो इतना पापी है कि क्या कहूँ???
पहली बार अपनी intuitions पर इतना गुस्सा आ रहा है, चिढ हो रही है... सुबह जब उनकी तबियत कि खबर मिली थी तभे मन में आया था कि बोल दूं कि, "देखे रहना"... फ़िर लगा नहीं यार, ऐसा नहीं सोचते... अपने-आप को समझाया, और रात में...
रिकोर्ड है कि जब भी मेरी और माँ कि कमर दर्द होती है, वो एक अजीब-सा दर्द होता है जो न तो दवाई से ठीक होता है और न ही मालिश से, तब कुछ-न-कुछ अभशगुन होता है...
अभी भी ऐसा ही हो रहा था...
मेरा चचेरा भाई भी नाडियाट में admit है, उसके दोनों kidney fail हो गई हैं, उसकी भी तबिओयत रोज़ खराव्ब होती है... इसीलिए doctors transplant करने की process आगे नहीं बढ़ा पा रहे हैं... बस उसी का डर लगता है रोज़... जब भी फ़ोन आता है, किसी का भी हो, बस भगवान से अर्जी लगाना पहले शुरू कर देते हैं कि सब ठीक रखना...
कहाँ हम उसे ताक कर बैठे थे और कहाँ ये खबर...
हे भगवान!!! वाकई तुम्हारी लीला समझ से बाहर है...
We will miss you MAAI...

34 comments:

  1. main bhi miss kar rahi hun... shabdon ne unke kareeb la diya nujhe

    ReplyDelete
  2. बहुत दुःख हुआ जान कर

    ReplyDelete
  3. जानकर बहुत दुःख हुआ..

    ReplyDelete
  4. ishwar mai ki atma ko shanti de..
    apke dukh me ham bhi dukhi hain.

    ReplyDelete
  5. संवेदना और दुःख से लबरेज़ ये पोस्ट आपके कोमल ह्रदय की परिचायक है. ऐसी परिस्तिथि में हम सब भगवान के सम्मुख ख़ुद को लाचार पाते हैं.हम आपके और उनके परिवार के दुःख में बराबर के शरीक हैं और दिवंगत आत्मा कि शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं.
    ॐ साईं नाथाय नमः

    ReplyDelete
  6. ऐसा ही होता है पूजा...दुनिया से जाने वाले जाने चले जाते हैं कहां...।

    ReplyDelete
  7. बहुत हृदयस्पर्शी, मार्मिक पोस्ट. माँ को श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  8. जानकर बहुत दुःख हुआ.

    ReplyDelete
  9. माई को श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  10. realy heart-touching.....dukhad

    ReplyDelete
  11. दिवंगत आत्मा कि शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं|

    ReplyDelete
  12. माई को स्नेहमयी श्रद्धान्जलि।

    ReplyDelete
  13. maayi ko meri taraf se shrdha-suman arpit hai... kisi k jaane ka dukh kya hota hai ye main bahut achhi tarah se janta hun... kisi k jane se duniya nahi rukti par unki kami humesha mahsoos hoti hai... aapke bhayi k swasthya-laabh kee bhi kaamna karta hun... evam dua karta hun ki wo jald thik ho jaye...

    ReplyDelete
  14. पूजा जी
    नमस्कार !
    आप के ब्लॉग पे पहली बार आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ , मगर मन उदास हो गया आप की,पोस्ट पढ़ के . आप के भाई को शिग्र इश्वर ठीक करे और दादी मी को नमन ! ॐ शांति शांति !

    --

    ReplyDelete
  15. पूजा जी जानकर बहुत अफ़सोस हुआ इश्वर से प्रार्थना है की इस दुःख की घडी में आपको सहने की छमता प्रदान करे !हिम्मत रखिये इश्वर आपके साथ है ..............

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  18. बहुत ही दु:खद घड़ी है ...ईश्‍वर इन पलों में आपको इन मुश्किलों से उबरने में सहायता करे ...।

    ReplyDelete
  19. इस लेख से तुम्हारे संवेदनशील दिल का पता चलता है ! माई को श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  20. Meri hardik samvednayen swikaar karen ji.Prabhu bahut dayalu hain,wo jo karte hain hame hi galat ya sahi lagta hai magar wo to jo bhi karte hain nishkaam hokar karte hain.Wo hi mata ji ki aatma ko shanti aur bhai ko swasthy pradan krenge.
    Plz bhai ke theek hote hi mujhe wayaktigat roop se soochit karen.
    vickybabu10@gmail.com is my id and vickybabu10.blogspot.com is my blog addrss.

    ReplyDelete
  21. माई को विनम्र श्रद्धांजलि, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।
    आपके चचेरे भाई के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  22. यह एक शाश्वत सत्य है जन्म लेने वाला एक दिन अपनी नश्वर काय छोड़ जाता है -हम कुछ नहीं कर सकते ...
    बस केवल धैर्य से नियति का सामना ....!

    ReplyDelete
  23. नमस्कार जी,
    बहुत ही अच्छी,सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  24. माई को श्रधांजलि

    ReplyDelete
  25. very sad..

    mere blog par bhi kabhi aaiye
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  26. iswar aapko yah dukh sahane ki shakti de.
    is dukh ki ghadi men ham sab aapke saath hain.
    -gyanchand marmagya

    ReplyDelete
  27. आप सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद...
    @विक्की... जी जरूर... शुक्रिया...

    ReplyDelete
  28. its my pleasure u came on my site.. keep visiting..

    ReplyDelete
  29. ishwar hai... bas ye bharosa rakhna hai...

    ReplyDelete
  30. पूजा जी
    बहुत दुःख है माई के गुजर जाने का
    सबकी माई एक सी ही होती है क्योंकि उसमें धरती बसती है.
    भाई के बारे में जानकर भी बहुत चिंतित है मन. ईश्वर से करबद्ध प्रार्थना है कि वह आपके भाई को शीघ्र ही ठीक करे और आपकी चिंताओं का समाधान करें.

    ReplyDelete