तेरा ख्याल... और फ़िर वही सवाल...


जब भी लिखना कुछ चाहा, सबसे पहले तेरा ही ख्याल आया...
"और क्या लिखूं तुझ पर?"
फ़िर यही सवाल आया...


लिखना जब भी चाहा कागज़ पर...
तो रुक गयी कलम वहीँ, जहाँ तेरा नाम आया
सोचा, लिख दें दिल पर...
तो बढ़ गयी धड़कन, जैसे ही रूह को तेरा ख्याल आया
लिखना तो आसमान पर भी चाहा...
पर लिख सकूँ तेर बारे में, ये सोच आसमाँ को भी छोटा पाया
लिख देते तेरा नाम इस ज़मीं पर...
पर मैला न हो जाए, इसलिए ज़मीं को बी ठुकराया
"हवाओं पर लिखना कैसा होग?"
पर छू जायेगा तू किसी और को, सोच कर दिल सिहर आया
हम तो चला देते पानी पर भी कलम...
पर बहकर कहीं दूर न चला जाए मुझसे?, सो, हाँथ वहां भी चल न पाया

चल...
लिख देते हैं तेरा नाम अपने दिल में... धड़कन में... रूह की परछाइयों में...
अपनी साँसों में... जिस्म में... अपनी अंगड़ाइयों में...
जिससे...
जब भी चाहूँ तुझे पाऊं खुद में ही समाया...
लोग देखकर पूछें मुझसे...
कि मैं हूँ या तेरी मोहब्बत का साया...

21 comments:

  1. "चल...
    लिख देते हैं तेरा नाम अपने दिल में... धड़कन में... रूह की परछाइयों में...
    अपनी साँसों में... जिस्म में... अपनी अंगड़ाइयों में...
    जिससे...
    जब भी चाहूँ तुझे पाऊं खुद में ही समाया...
    लोग देखकर पूछें मुझसे...
    कि मैं हूँ या तेरी मोहब्बत का साया..."

    bahut hi badhiya likha hai ji....dil ko chhooti rachna aapki...

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  2. वाह वाह वाह वाह्………………बडे ही सुन्दर भाव हैं………………उम्दा रचना।

    ReplyDelete
  3. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this site
    to increase visitor.Happy Blogging!!!

    ReplyDelete
  4. जब भी चाहूँ तुझे पाऊं खुद में ही समाया..
    पूजा जब ये बात है तो फिर सवाल क्यों जवाब तो खुद दिल मे मौजूद है। वाह सुन्दर कविता है बधाई

    ReplyDelete
  5. अपने मनोभावों को बहुत सुन्दर शब्द दिए हैं।बधाई।

    ReplyDelete
  6. Bhai Wah
    Kitni shiddat se chaha hai aapne apni preyashi ko. Aap ke shabd aapke pyar ko amar kar diye hain.
    Bahut bahut badhai.
    P.K.Mishra(Varanasi) 9415227186

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. जब भी लिखना कुछ चाहा, सबसे पहले तेरा ही ख्याल आया...
    "और क्या लिखूं तुझ पर?"
    फ़िर यही सवाल आया...

    बेहद सुन्दर रचना ...बार बार पढना ज़रूरी हो गया.

    ReplyDelete
  9. behad sunder bhavpurn rachana.

    ReplyDelete
  10. Kunwar ji, Sanjay ji, Vandna ji, Nirmala ji, Paramjeet ji, PK ji. Ajaya ji, Sangeeta ji, Arshad i, Vinay ji, Mehek ji... aap sabhi ka bohot bohot dhamyawaad...

    @Maria... Thank you so much...

    @PK ji... ji wo meri preyasi nahi hai...

    ReplyDelete
  11. It's awesome! what a nice poem!
    jitni bhi tareef karo kam hai :)

    ReplyDelete
  12. bahut hi sundar aur pyari si kavita..

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत रचना...

    ReplyDelete
  14. @Shailesh, Neelima jee, Rajneesh jee, Sanu jee... thank you so much...

    ReplyDelete
  15. Amazing use of rhyme to express complex thought in so simple a manner... loved the poem...

    ReplyDelete
  16. @silentdreamz and paramanand ji... thank you so much...

    ReplyDelete